ग्राम पंचायत नैनाना जाट के प्रधान प्रतिनिधि राजेन्द्र सिंह का साक्षत्कार

आज हम रूबरू हो रहे हैं ग्राम पंचायत नैनाना जाट के प्रधान प्रतिनिधि राजेन्द्र सिंह से जो 2015 के पंचायत चुनाव में प्रधान के प्रतिनिधि चुने गये थे। राजेन्द्र सिंह बचपन से ही व्यवहार कुशल रहें हैं। राजनीति इनका शोक नहीं था लेकिन गाँव की बड्ती समस्या और लोंगों का मिल रहा स्नेह के कारण उन्होंने ग्राम प्रधान का प्रतिनिधि बनना स्वीकार किया।प्रतिनिधि राजेन्द्र सिंह ने बताया कि मेरा पहला मकसद ही अपनी पंचायत को विशेष दर्जा दिलाना है और वे इस काम में आज तक लगे हुए हैं। तो जानते है उनसे उनके विचार और योजनायें के बारे मेंदृ

सवाल- आपने ग्राम प्रधान प्रतिनिधि बनना क्यों स्वीकार किया
जबाब- हमारे गांव में सफाई की सबसे बड़ी समस्या थी रास्तों पर अतिक्रमण बहुत ज्यादा था शिक्षा का स्तर बहुत गिर गया था। मेरा पहला उद्देश्य यही था।
सबाल- प्रधान निर्वाचित होने के बाद आपने किस विकास की तरफ शुरुआत करने की पहल की ।
जबाब- सबसे पहले मैंने स्कूलो के रास्तों पर कार्य शुरू किया जिससे बच्चों को स्कूल आने जाने में कोई परेशानी न हो व स्कूलों की दीवाल की मरम्त कराई । उसके बाद जहाँ इन्टरलाकिंग की जरुरत थी वहां इन्टरलाकिंग और जहाँ लाकिंग टाइल्स की जरुरत थी वहां लाकिंग टाइल्स बिछबा दीं जिस पर पूर्व प्रधान ने ज्यादा ध्यान नहीं दिया था।
सबाल- बमरौली ब्लाक में आपने ग्राम पंचायत को कोनसा दर्जा दिलाने का प्रयास कर रहे हो ।
जबाब– बमरौली ब्लाक में 59 ग्राम पंचायत हैं मैं अपनी ग्राम पंचायत को नंबर एक पर रखना चाहता हूँ यह मेरा दृदृढ़ संकल्प है और उसी स्तर से मैं कार्य कर रहा हूँ ।
सबाल- आपको विकास कार्य में कुछ अड़चनें आती होंगी उस का समाधान कैसे करते हो।
जबाब- पहले तो अड़चनें आती नहीं मैं विनम्रता पूर्वक विकास कार्य आगे बढ़ा रहा हूँ और कोई आती भी है तो अपने ब्लाक प्रमुख या मुख्य विकास अधिकारी से मिलकर सुलझा लेता हूँ ।
सबाल- आप किस राजनीत दल से सम्बन्ध रखते हो ।
जबाब- मैं बसपा से ताल्लुक रखता हूँ जो उसका नारा ,सर्वजन सुखाय सर्वजन हिताय मैं बिना किसी जाति वर्ग के भेदभाव को न रख कर सामान रूप से विकास कार्य कर रहा हूँ मेरा उद्देश्य केवल विकास है
सबाल- अपने कार्यकाल में किस स्तर तक विकास कराचुके हो और आगे क्या करना चाहते हो ।
जबाब- दो रास्ते हरीनगर , 14 रास्ते स्वरुप नगर ,दो पुलिया, समदाय केंद्र की दीवाल, इंटर लाकिंग टाइल्स व दो गेट गांव से शमसान घाट तक रोड इत्यादि। आगे मैं अपने गांव को डिजिटल इंडिया तरीके से गांव का मुख्य स्वागत गेट बनवाकर उस पर गांव का नक्शा होगा मैं अपने गाँव को डिजिटल गांव बनाऊंगा मुझे पूर्ण विस्वास है कि मैं हर हाल में इस सपने को पूरा करने का प्रयास करूँगा सभी ग्राम पंचायत का मुझे पूरा सहयोग है केंद्र से सहायता राशि मिलने में देरी होने के कारण विकासकार्य में रुकावट आ रही हैं । आगे भी मैं पंचायत चुनाव लडूंगा राजनीत में ही रहना चाहता हूँ
नए समीकरण टीम को बधाई देते हुए कहा कि मैं पत्रिका के उज्जवल भविष्य की कामनाएं करता हूँ।

330 Views