Breaking News
Home / आगरा / भ्रूण लिंग परीक्षण होता हो, उसकी सूचना गोपनीय ढंग से उपलब्ध करायी जाय

भ्रूण लिंग परीक्षण होता हो, उसकी सूचना गोपनीय ढंग से उपलब्ध करायी जाय

 आगरा-प्रमुख अधीक्षिका, जिला महिला चिकित्सालय, डा0 आशा शर्मा की अध्यक्षता में पी0सी0पी0एन0डी0टी0 अधिनियम सलाहकार समिति की बैठक संपन्न हुई। जिसमें जनपद में मा0 मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के न्यायालय में विचाराधीन 06 कोर्ट केस, अल्ट्रासाउण्ड पंजीकरण एवं नवीनीकरण हेतु आवेदन पत्रों पर संस्तुति व विभिन्न निरीक्षणों, औचक निरीक्षणों तथा आगामी माह में होने वाले निरीक्षणों की रूपरेखा आदि पर विस्तृत विचार-विमर्श किया गया। ज्ञातव्य है कि ऐसे भ्रूण लिंग परीक्षण वाले अल्ट्रासाउण्ड केन्द्रों पर स्टिंग ऑपरेशन के दौरान सबूत के साथ पकड़े जाने पर उनके विरुद्ध पी0सी0पी0एन0डी0टी0 अधिनियम- 1994 के अन्तर्गत विधिक कार्यवाही की जाती है।
     बैठक में जनपदीय सलाहकार समिति द्वारा सर्वसाधारण से अनुरोध किया गया  कि ऐसे अल्ट्रासाउण्ड केन्द्र जहां भ्रूण लिंग परीक्षण होता हो, उसकी सूचना गोपनीय ढंग से उपलब्ध करायी जाय। मुखबिर योजना के अन्तर्गर सबूत सहित स्टिंग ऑपरेशन में पकड़े जाने पर विधिक कार्यवाही के साथ ही सम्बन्धित गर्भवती महिला को 01 लाख रूपये, सूचना देने वाले को 60 हजार रूपये तथा सम्बन्धित गर्भवती महिला के सहायक को 40 हजार रूपये तीन किस्तों में प्रदान किया जाता है। बैठक में अल्ट्रासाउण्ड पंजीकरण हेतु 04 तथा अल्ट्रासाउण्ड नवीनीकरण हेतु कुल 14 आवेदन पत्रों में शेष आवेदन पत्रों पर शीघ्र निरीक्षण करने का निर्णय लिया गया।
    बैठक में प्रमुख अधीक्षिका, जिला महिला चिकित्सालय डा0 आशा शर्मा, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी/नोडल अधिकारी पी0सी0पी0एन0डी0टी0 डा0 वीरेन्द्र भारती, बाल रोग विशेषज्ञ, जिला महिला चिकित्सालय, डा0 खुशबू केसरवानी एवं एन0जी0ओ0 आशा, डा0 ए0के0 सिंह सहित अन्य चिकित्साधिकारीगण उपस्थित थे।

About

x

Check Also

शिक्षकों व विद्यार्थियों ने किया सीएए का समर्थन

00 नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 के समर्थन में आगरा प्रोग्रेसिव टीचर्स एसोसिएशन ने शिवजी नगर ...