Breaking News
Home / शिक्षा / गुरु-शिष्य की परम्परा हमारे देश की धरोहर-भारत विकास परिषद संस्था

गुरु-शिष्य की परम्परा हमारे देश की धरोहर-भारत विकास परिषद संस्था

आगरा : सेवा और संस्कार कार्यों के माध्यम से भारत को स्वस्थ, समर्थ और संस्कारित देश बनाने के उद्देश्य से भारत विकास परिषद पिछले 56 वर्षों से सक्रिय भूमिका निभा रही है। इसी कड़ी में भारत विकास परिषद की समर्पण शाखा द्वारा तहसील रोड स्थित सरस्वती  शिशु मंदिर में ‘गुरु- वंदन छात्र-अभिनंदन’ कार्यक्रम आयोजित किया गया | कार्यक्रम में मुख्यातिथि श्रीकृष्ण अग्रवाल, विशिष्ठ अतिथि मुकेश मित्तल तथा महेश चंद्र अग्रवाल रहे जिसमें विद्यालय के गुरुजनो को तिलक लगाकर  श्रीफल एवं वस्त्र भेंट करते हुए उनकी सेवाओ के लिए वंदन किया  एवं अत्यंत मेधावी छात्र- छात्रों का अभिनंदन किया गया और उन्हें स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
अध्यक्ष अखिलेश भटनागर ने बताया कि गुरु-शिष्य परम्परा हमारे देश की धरोहर है और छात्रों के मन में अपने माता-पिता, शिक्षक व् बड़ों के प्रति सम्मान का भाव बना रहे, वे उनके ज्ञान प्रसार के प्रयासों के प्रति कृतज्ञ रहें इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए यह कार्यक्रम परिषद आयोजित करती है। इसमें मेधावी छात्रों का माला पहनकर व् स्मृतिचिन्ह प्रदान करके अभिनंदन किया गया और बच्चों ने अपने शिक्षकों का अभिवादन करके उनका आशीर्वाद लिया। कार्यक्रम का सञ्चालन मोनिका दौनेरिया व राहुल वर्मा ने किया | इस अवसर पर शशि मल्होत्रा, जितेंद्र मिश्रा, विमल मित्तल, दीपक मनचंदा, हरेंद्र मल्होत्रा, संजीव मल्होत्रा, संजीव अग्रवाल, नितिन गोयल, देवेंद्र गुप्ता, अंशुल दौनेरिया, निधि मित्तल आदि उपस्थित रहे।

About

x

Check Also

बाल कविता – स्कूटी की सवारी – लेखक नीरज त्यागी

+10 नई स्कूटी लेकर आया राजू भालू, उसका दोस्त चिम्पू बंदर है बहुत चालू। मीठी ...