Breaking News
Home / आगरा / हरि बोल सेवा समिति के सामूहिक विवाह समारोह में 12 जोड़े बंधे दाम्पत्य सूत्र में

हरि बोल सेवा समिति के सामूहिक विवाह समारोह में 12 जोड़े बंधे दाम्पत्य सूत्र में

खबर – सी पी सिंह 

आगरा । मंच पर नवविवाहित सामूहिक विवाह मे दाम्पत्य सूत्र में बंदे असहाय व गरीब बेटियों के हाथ हुए पीले सामूहिक बारात में जमकर नाचे आगरा वासी , चार कुंतल फूलो से हुआ बारातियो का स्वागत बल्केश्वर स्थित महालक्ष्मी मंदिर पर हरि बोल सेवा समिति का सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन किया गया। जिसमे 12 जोड़ो का वैदिक रीति से विवाह संपन्न कराया गया। मुख्य अतिथि महापौर नवीन जैन व भाजपा महानगर अध्यक्ष भानु महाजन ने संयुक्त रूप से मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। नव वैवाहित जोड़ो ने हवनकुण्ड में आहुतियां डाल एक-दूसरे के गले में वरमाला डाल अपने दांपत्य जीवन की शुरुआत की। कार्यक्रम सयोजक केशव अग्रवाल ने बताया कि सामूहिक विवाह समारोह में तीन हज़ार लोगो के समक्ष मंच से नव वैवाहिक जोड़ो ने नागरिकता(संसोधन) कानून अधिनियम 2019 सीएए और एनपीआर का सार्वजानिक मंच से समर्थन कर आगरा ही नहीं सम्पूर्ण देश में सन्देश दिया है । संस्थापिका ममता सिंघल ने बताया कि सामूहिक विवाह समारोह में अपनी बेटियों की तरह विवाह किया गया । बेटी का कन्यादान सबसे बड़ा दान है। वर-वधुओं को गृह उपयोगी दर्जनों वस्तुएं कन्यादान स्वरूप भेंट की।

सामूहिक बारात बनी शोभायात्रा
जब बल्केश्वर चौराहे से एक साथ 12 दूल्हे विवाह के लिए निकले तो घरो कि छत से लोगो ने पुष्प वर्षा की । जगह-जगह घरो से निकल कर दूल्हों के महिलाओ ने तिलक किये । ढोल-ताशे की धुन पर बाराती डांस करते हुए विवाह स्थल महालक्ष्मी मंदिर पहुंचे। जहां हरि बोल संस्था के पदाधिकारियों ने दूल्हों और बारातियों पर चार कुंतल फूल बरसा कर स्वागत किया। निर्धारित समय पर जयमाला, पाणिग्रहण संस्कार हुआ। मंच पर मथुरा से आये कलाकारों द्वारा मयूर नृत्य व फूलो की होली का कार्यक्रम आयोजित किया गया ।

नागरिकता संशोधन कानून पर ये बोले जोड़े
नव विवाहित जोड़े ज्योति और सुमित का कहना है कि नागरिकता संशोधन कानून की सहायता से पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में धार्मिक उत्पीड़न के कारण वहां से विस्थापित हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई धर्म के लोगो को भारत की नागरिकता दी जाएगी। अब पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई धर्म के वह लोग, जिन्होंने 31 दिसंबर 2014 की निर्णायक तारीख तक भारत में प्रवेश कर लिया था, भारत की नागरिकता के पात्र होंगे।

ये रहे मौजूद
महंत कपिल नागर, नितिन कोहली, गौरव बंसल, भोलानाथ अग्रवाल, धर्मेंद्र अवस्थी, मुरारीप्रसाद अग्रवाल, गौरव पोद्दार,चंद्रेश गर्ग, अनुज सिंघल, जुगल श्रोत्रिय, योगेश गुप्ता, अंकुश मंगल, विनय वर्मा, विक्की गर्ग, विष्णु अग्रवाल, नरेंद्र अग्रवाल, अनिल गुप्ता, राधे कपूर, राजीव अग्रवाल, अनिल अग्रवाल, रामगोपाल, अमित तिवारी, बेबी अग्रवाल, डॉली अग्रवाल, अनुराधा श्रीवास्तव, संगीता पोद्दार, अर्चना अग्रवाल आदि उपस्थित रहे l

About

x

Check Also

ब्रह्माकुमारी संस्था के संस्थापक पिताश्री प्रजापिता ब्रह्मा बाबा की 51वीं पुण्य तिथि विश्व शांति दिवस के रूप में मनायी गई

00 आगरा – ब्रह्माकुमारीज जोनल मुख्यालय कमलानगर, आगरा द्वारा संस्था के साकार संस्थापक प्रजापिता ब्रह्माबाबा ...