Breaking News
Home / शिक्षा / स्वर्गवास एवं देहांत हो जाने पर क्यों लिखते आरआईपी, आईये जानते हैं क्या होता है RIP ?

स्वर्गवास एवं देहांत हो जाने पर क्यों लिखते आरआईपी, आईये जानते हैं क्या होता है RIP ?

इंटरनेट की दुनिया में प्रत्येक वर्ड का शॉर्टकट प्रयोग किया जाता है, जैसे Good Morning के लिए GM और Good Night के लिए GN का प्रयोग किया जाता है, इसी प्रकार से Rest in Peace के लिए RIP का प्रयोग किया जाता है, आजकल सोशल मीडिया में प्रयोग हो रहे शॉर्टकट के बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए अगर आप इस प्लेटफार्म पर सही से वार्तालाप नहीं कर पाएंगे और आपको शर्मिंदगी का सामना करना पड़ सकता है |

रिप का फुल फॉर्म –रिप (RIP) का फुल फॉर्म “Rest in Peace” (शान्ति से आराम करो) होता है, इसका प्रयोग आत्मा की शांति के लिए किया जाता है |

आपने सोशल मीडिया या अन्य जगह पर RIP शब्द अवश्य देखा होगा| इस शब्द का प्रयोग किसी दुखद घटना घट जाने के बाद अपनी संवेदना व्यक्त करने के लिए किया जाता है, जब कोई घटना के कारण किसी की मृत्यु हो जाती है, तो उसकी आत्मा की शांति के लिए RIP शब्द का प्रयोग किया जाता है | क्रिश्चन धर्म में इस शब्द का अधिक प्रयोग किया जाता है| सोशल मीडिया में आजकल इस शब्द का बहुतायत प्रचलन हो रहा है|

क्या होता है रिप का अर्थ – ईसाई अथवा मुस्लिम मान्यताओं के अनुसार बताया गया है, कि जब कभी “जजमेंट डे” अथवा “क़यामत का दिन” आएगा, उस दिन कब्र में पड़े ये सभी शव दोबारा जीवित हो जायेंगे तब तक उस दिन के इंतज़ार में “शान्ति से आराम करो” |

 श्रद्धांजलि भी लिखते हैं – प्रत्येक धर्म में दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि देने का अलग-अलग तरीका है,  हिन्दू धर्म में शव को जलाते है लेकिन उनकी आत्माओं की शांति के लिए श्रद्धांजलि/ शांति पाठ किया जाता है | ईसाई अथवा मुस्लिम धर्म में मृत्यु के पश्चात शव को दफना दिया जाता है और उसके ऊपर RIP को लिख दिया जाता है|

 

About

x

Check Also

युद्ध में सिंदूरो का दान कौन करेगा, अपने सपनो का अनुदान कौन करेगा-कवि पदम गौतम

00 आगरा : दयालबाग स्थित बीएल फार्म हॉउस पर प्रतिभा भारती संस्था की ओर से  ...