Breaking News
Home / आगरा / उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के पुत्र अभिनव मौर्य ने आगरा प्रशासन की दी 400 पीपीई किट

उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के पुत्र अभिनव मौर्य ने आगरा प्रशासन की दी 400 पीपीई किट

आगरा –  (वीरेंद्र चौधरी की रिपोर्ट )

कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी से आज पूरा हिन्दुस्तान पीड़ित है। भारत के लोग एवं सरकार अपने- अपने स्तर से आम आदमी की जान बचाने में प्रयासरत हैं जहां केंद्र की मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश में योगी सरकार दिन रात मानव जीवन को बचाने के लिए संघर्षरत है और नई- नई आधुनिक तकनीकी का भी इस्तेमाल कर भी रही है। उत्तर प्रदेश में कोरना पीड़ितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जिसमें आगरा जिला उत्तर प्रदेश का नंबर एक पर है जहां पीड़ितों की संख्या 272 के आस पास है। आगरा में लगभग 55 से 60 हॉट स्पॉट बनाए गए हैं अधिकतर गली मोहल्लों एवं कोलॉनियों में जहां कोरॉना संक्रमित मिला है उसे सील कर दिया और पूरे क्षेत्र को सेनाटाईज किया जा रहा है।
आगरा में शासन प्रशासन की हौसला अफजाई के लिए समाजसेवी संस्थाएं एवं समाजसेवी लोग आगे आकर गरीब असहाय लोगों को भरपेट खाने का इंतजाम भी कर रहे हैं और प्रशासन को चिकित्सा सामिग्री भी उपलब्ध करा रहीं हैं।
आज उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के पुत्र अभिनव मौर्य ने आगरा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी मुकेश वत्स को 400 पीपीई किट प्रदान की। किट देने के बाद अभिनव मौर्य ने कहा कि कोरोना को हराने के लिए समाजसेवी लोगों को आगे आना चाहिए और प्रशासन का सहयोग करना चाहिए। प्रसाशन को हर क्षेत्र में समाज की लोगों को वोलियनटर बनाए जो लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय बताए कि हम क्या करना चाहिए। जैसे कि अपने समर्थकों को बताया कि सभी लोग कोरोना से सावधान रहें क्योकि ये एक ऐसा वायरस है कि जिसका इलाज नहीं है। वैसे सरकार यथा संभब इलाज कर रही और लोग ठीक भी हो रहें हैं।
आप लोगो को ये भी ध्यान रखना है शहर का कोई भी गरीब भूख से परेशान न हों।
पहले भी महामहिम के पुत्र अभिनव मौर्य के सहयोग से आगरा के विभिन्न क्षेत्रों में खाद्यय सामिग्री का वितरण किया जा चुका है।
उन्होंने आगे भी भरोसा दिया है प्रशासन की हर सँभव मदद की जाएगी।

*उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के आगरा ( वीरेंद्र चौधरी की रिपोर्ट ) कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी से आज पूरा हिन्दुस्तान पीड़ित है। भारत के लोग एवं सरकार अपने- अपने स्तर से आम आदमी की जान बचाने में प्रयासरत हैं जहां केंद्र की मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश में योगी सरकार दिन रात मानव जीवन को बचाने के लिए संघर्षरत है और नई- नई आधुनिक तकनीकी का भी इस्तेमाल कर भी रही है।

उत्तर प्रदेश में कोरना पीड़ितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जिसमें आगरा जिला उत्तर प्रदेश का नंबर एक पर है जहां पीड़ितों की संख्या 272 के आस पास है। आगरा में लगभग 55 से 60 हॉट स्पॉट बनाए गए हैं अधिकतर गली मोहल्लों एवं कोलॉनियों में जहां कोरॉना संक्रमित मिला है उसे सील कर दिया और पूरे क्षेत्र को सेनेटाईज किया जा रहा है।
आगरा में शासन प्रशासन की हौसला अफजाई के लिए समाजसेवी संस्थाएं एवं समाजसेवी लोग आगे आकर गरीब असहाय लोगों को भरपेट खाने का इंतजाम भी कर रहे हैं और प्रशासन को चिकित्सा सामिग्री भी उपलब्ध करा रहीं हैं।
आज उत्तराखंड की महामहिम राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के पुत्र अभिनव मौर्य ने आगरा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी मुकेश वत्स को 400 पीपीई किट प्रदान की। किट देने के बाद अभिनव मौर्य ने कहा कि कोरोना को हराने के लिए समाजसेवी लोगों को आगे आना चाहिए और प्रशासन का सहयोग करना चाहिए। प्रशासन को हर क्षेत्र में समाज की लोगों को वोलियनटर बनाए जो लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय बताए कि हम क्या करना चाहिए। जैसे कि
* लॉक डाउन का पालन करें।
*सोशल डिस्टेसिंग का पालन करना चाहिए।
*बाहर से जब भी घर के अंदर आए तो अपने हाथ साबुन से साफ करें।
* जब भी किसी से बात करें तो दोनों के बीच के कम से कम 2 मीटर होनी चाहिए।
* आवश्यकता होने पर ही घर से बाहर निकले।
*बाहर निकलते समय मुंह पर रूमाल ,गमछा या फिर मास्क अवश्य लगाएं।
* यातायात के नियमों का पालन करें।
अपने समर्थकों को बताया कि सभी लोग कोरोना से सावधान रहें क्योकि ये एक ऐसा वायरस है कि जिसका इलाज नहीं है। वैसे सरकार यथा संभब इलाज कर रही और लोग ठीक भी हो रहें हैं।
आप लोगो को ये भी ध्यान रखना है शहर का कोई भी गरीब भूख से परेशान न हों।
पहले भी महामहिम के पुत्र अभिनव मौर्य के सहयोग से आगरा के विभिन्न क्षेत्रों में खाद्यय सामिग्री का वितरण किया जा चुका है।
उन्होंने आगे भी भरोसा दिया है प्रशासन की हर सँभव मदद की जाएगी।

About

x

Check Also

पत्रकार पर फर्जी मुकदमे को लेकर लगाई न्याय की गुहार

00 उ0प्र0 संयुक्तत पत्रकार समिति के पदाधिकारियों ने आईजी से की मुलाकात मामले की गंभीरता ...