Breaking News
Home / आगरा / सरकार द्रारा भत्ते खत्म करने पर निगम कर्मचारियों में आक्रोश

सरकार द्रारा भत्ते खत्म करने पर निगम कर्मचारियों में आक्रोश

आगरा – विभिन्न समाचार पत्रों में राज्य सरकार द्वारा जिन नगर प्रतिकर भत्ता सहित 6 भत्तो को फ्रीज करने पर सभी कर्मचारी संगठनों ने 1 मई को मजदूर दिवस पर मोमबत्ती जलाकर विरोध किया था हद तो तब हो गयी जब उत्तर प्रदेश सरकार ने उक्त सभी भत्तो को हमेशा के लिए खत्म कर दिया।  जैसे ही सभी कर्मचारियों ने समाचार पत्र पढ़े तो निगम कर्मियों ने उत्तर प्रदेश स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ आगरा के कार्यालय बुधवार एक बजे बैठक प्रदेश उपाध्यक्ष विनोद इलाहाबादी, राजकुमार विद्यार्थी की संयुक्त अध्यक्षता में बैठक हुई बैठक में सामाजिक दूरी का पालन कराते हुए सरकार के काले कानून के खिलाफ सभी कर्मचारियों ने आक्रोश व्यक्त किया। बैठक  में रणनीति बनाने के लिए 11 सदस्य समिती बनाई गई और समिती ने कहा है महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष शशि कुमार के निर्देश पर विनोद इलाहाबादी के नेतृत्व में सभी महासंघ के पदाधिकारियों को आन्दोलन सफल बनाने की जिम्मेदारी दी गई। चौधरी सपन सिंह ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार के इस काले कानून
का अब आन्दोलन ही विकल्प है विनोद इलाहाबादी ने कहा राज्य सरकार ने हमारे भत्ते ऐसे समय में खत्म किये जब सभी कर्मचारी इमानदारी से अपने और अपने परिवार की जान जोखिम में डालकर कोरोना जैसी खतरनाक महामारी से सीधे टक्कर ले रहे हैं। हम तो सोच रहे थे । हमारी कर्तव्य निष्ठा से खुश होकर कोरोना वायरस के समय पर काम करने का हमको वेतन वृद्धि का इनाम देंगे मगर सरकार ने हमारे भत्ते खत्म करके हमारे धैर्य की परीक्षा लेने का काम किया है। अगर हमारे भत्ते बहाल नहीं किये तो हमें मजबूर होकर कार्य बहिष्कार कर आन्दोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे। बैठक में विनोद इलाहाबादी, चौधरी सपन सिंह, राजकुमार विद्यार्थी, हरीबाबू वाल्मीकि, रोहित लवानियां ,बोबी नरवार, सौनू चौहान, अनिल राजौरिया, अशोक नरवार, धर्मेन्द्र ब्रहम, अमित नरवार ,रंजीत सिंह नरवार, दीपक चौहान आदि लोग मौजूद थे।

अवधेश यादव की रिपोर्ट

About

x

Check Also

प्रवासी मजदूरों को योगी सरकार ने वापस बुलाया, मजदूरों को लेकर स्पेशल ट्रेन आगरा पहुंची

00 आगरा ( जे पी शर्मा  और संगम चौहान की रिपोर्ट ) लॉक डाउन के ...