Breaking News
Home / क्षेत्रीय / राशन बांटने का सिलसिला जरूर दिखाई पड़ रहा है लेकिन गरीबों की सुध लेने वाला कोई नहीं

राशन बांटने का सिलसिला जरूर दिखाई पड़ रहा है लेकिन गरीबों की सुध लेने वाला कोई नहीं

आगरा वैसे तो शहर में भोजन और सूखा राशन बांटने का सिलसिला जरूर दिखाई पड़ रहा है लेकिन अधिकांश मोहल्लों के गरीबों की सुध लेने वाला कोई दिखाई नहीं पड़ रहा अधिकांश जगहों पर लोग घरों में बैठने को जरूर मजबूर हैं लेकिन अभी तक घरों में जो भी कुछ अनाज और खाद सामग्री थी वह सब खत्म हो चुकी है लोग दिनोंदिन भुखमरी की तरफ बढ़ रहे हैं कहीं-कहीं तो लोग घरों में बीमार हैं काम ना मिलने के कारण घर की पूंजी भी खत्म हो गई है पैसों के अभाव के कारण दवाइयां भी नहीं मिल रही है लोग घरेलू नुस्खा अपनाकर अपना घर में ही इलाज कर रहे हैं आवक की कमी के कारण दवाइयों से लेकर डॉक्टरों की फीस व अन्य दैनिक वस्तुएं भी महंगी हो गई है यह जब है जब कोरोना महामारी के चलते देशव्यापी लॉकडाउन के कारण कई गरीब परिवार ऐसे हैं जिनके लिए दो वक्त का खाना जुटाना तक मुश्किल हो गया है। इनमें दिहाड़ी मजदूर और ऐसे लोग शामिल हैं जिनकी आय रोज के काम पर निर्भर है।
ऐसे में पुलिस प्रशासन के साथ-साथ कई एनजीओ, समाजसेवी और आम लोग हैं जो इन लोगों की हरसंभव मदद कर रहे हैं। सब मिलकर इन्हें खाना, राशन और बाकी जरूरत के सामान उपलब्ध करवा रहे हैं।
कोरोना एक लड़ाई: कहानियों-कविताओं के माध्यम से इस तरह सकारात्मक बनायें लॉकडाउन को
ऐसा करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाए. कई लोग हैं जो मदद कम करते हैं और फोटो ज्यादा खिंचवाते हैं। ऐसे लोगों ने गरीबों की इस हालत का मजाक बनाकर रख दिया है।

अवधेश यादव की रिपोर्ट

About

x

Check Also

उ.प्र.अपराध निरोधक समिति के चेयरमैन डॉ. उमेश शर्मा ने सेंट्रल जेेल को कराया सैनिटाइजेशन 

00 आगरा उ.प्र.अपराध निरोधक समिति के चेयरमैन डॉ. उमेश शर्मा ने कराया सेंट्रल जेल के ...