Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / 21 मई को पूरे देश में आतंकवाद विरोधी दिवस क्यों मनाया जाता है? राजीव गुप्ता लोकस्वर

21 मई को पूरे देश में आतंकवाद विरोधी दिवस क्यों मनाया जाता है? राजीव गुप्ता लोकस्वर

आज के समय में दुनिया जिन समस्याओं का सामना कर रही है, उनमें सबसे बड़ी और अहम समस्या आतंकवाद है। आतंकवाद के कारण हजारों लोगों को दुनिया में अपनी जान गंवानी पड़ी है और भारत समेत कई देशों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। आतंकवाद जैसी समस्या से निपटने के लिए भारत ने 21 मई का दिन ही इसको समर्पित कर दिया है। इस दिन भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्व राजीव गांधी की पुण्यतिथि भी मनाई जाती हे
हर साल 21 मई को पूरे देश में आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है। इसका मकसद लोगों को आतंकवाद के समाज विरोधी कृत्य से लोगों को अवगत कराना है। शांति और मानवता का संदेश फैलाना ।आतंकवाद की वजह से लोगों को जानमाल का कितना नुकसान उठाना पड़ता है, युवाओं को शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करना ताकि वे आतंकी गुटों में शामिल न हों ।आतंकी गुटों और वे कैसे आतंकी हमलों को अंजाम देने की योजना बनाते हैं, उसके बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करना ।लोगों के बीच एकता को बढ़ावा देना  ।देश में आतंकवाद, हिंसा के खतरे और उनके समाज, लोगों और पूरे देश पर खतरनाक असर के बारे में जागरूकता पैदा करना ।राष्ट्र को नुक़सान होने के साथ डर ओर वेमनिस्ता का वातावरण ख़त्म करना हे  उससे भी लोगों को अवगत कराया जाता है।
21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कर दी गई थी। उनकी हत्या के बाद ही 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के तौर पर मनाने का फैसला किया गया। इस दिन हर सरकारी कार्यालयों, सरकारी उपक्रमों और अन्य सरकारी संस्थानों में आतंकवाद विरोधी शपथ दिलाई जाती है।
स्व चौधरी चरण सिंह के बाद स्व राजीव गांधी देश के प्रधानमंत्री बने थे। वह तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में एक रैली को संबोधित करने गए थे। उसी दौरान एक महिला उनके सामने आई। महिला का संबंध आतंकवादी संगठन एलटीटीई से था। उसके कपड़ों के नीचे विस्फोटक छिपा था। वह जैसे ही राजीव गांधी का पैर छूने के लिए झुकी तेज धमाका हुआ। उस धमाके में राजीव गांधी समेत करीब 25 लोगों की मौत हो गई थी।
लोकस्वर के राजीव गुप्ता का कहना हे आज कई तरह का आतंक हे दुनिया में हर आतंक समाज के लिए ख़तरनाक हे चाहे मानव बंब हो या जिहाद या कोरोना वाइरस भी एक तरह का चाइना का आतंकवाद हे जेस्से दुनिया मानव व आर्थिक नुक़सान हो रहा हे ।

About

x

Check Also

अंतराष्ट्रीय महिला दिवस, महिलाओं के प्रति व्याप्त कुरीतिओं के समाप्त करने का प्रयास करें वहीं असली ‘महिला दिवस’ सार्थक होगा

00 पराग सिंहल आज 8 मार्च को अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के रुप में मनाया जाता ...