Breaking News
Home / धर्म संस्क्रति / रक्षाबंधन भाई बहन के पवित्र प्रेम का पर्व : उपाध्याय

रक्षाबंधन भाई बहन के पवित्र प्रेम का पर्व : उपाध्याय

खबर – सी पी सिंह

आगरा – रक्षाबंधन हमारे देश का एक बहुत ही खास त्यौहार है इस दिन बहन अपने भाई को रेशम की डोरी कलाई में बांधकर लंबी उम्र की कामना करती है और भाई अपनी बहन की रक्षा करने का वचन देता है।
रक्षाबंधन का त्यौहार हर साल खुशियों के साथ मनाया जाता है। बहनों को इस पर्व का बड़ी बेसब्री से इंतजार रहता है। वही भाई भी बहनों के घर आने का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार करते हैं। जब बहनें अपने भाइयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती हैं तो यह कामना करती हैं कि उसके भाई के जीवन में कभी कोई कष्ट ना हो और उन्नति करें और उसका जीवन सुखमय हो।

वही भाई सक्षम – सृजन बड़े भाई दिव्यांश भी इस रक्षा सूत्र को बंधवा कर गौरवांवित अनुभव करते हैं और जीवन भर अपनी बहन की रक्षा करने की कसम खाते हैं यही स्नेह और प्यार इस त्यौहार की गरिमा को और बढ़ा देता है। सावन मास में पूर्णिमा को मनाए जाने वाले इस त्यौहार से कई मान्यताएं जुड़ी हुई है। इस त्यौहार को गुरु और शिष्य परंपरा का प्रतीक भी माना जाता है। माना जाता है कि यह त्योहार महाराज दशरथ के हाथों श्रवण कुमार की मृत्यु से जुड़ा है। इसलिए रक्षा सूत्र को सबसे पहले गणेश जी को बांधने के बाद श्रवण कुमार को भी अर्पित किया जाता है। अमरनाथ की धार्मिक यात्रा रक्षाबंधन के दिन ही पूर्ण होती है। इस पवित्र त्यौहार पर वृक्षों को भी राखी बांधी जाती है। माना जाता है कि प्राचीन काल में ऋषि मुनियों के उपदेश की पूर्णाहुति इसी दिन होती थी।

इस त्यौहार से महाभारत की कथा भी जुड़ी हुई है युद्ध में पांडवों की जीत को सुनिश्चित करने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को सेना की रक्षा के लिए राखी का त्यौहार मनाने का सुझाव दिया था। माना यह भी जाता है कि एक बार राजा इंद्र और दानवों के बीच भयंकर युद्ध हुआ, जिसमें देवराज इंद्र की पराजय होने लगी तब देवराज की पत्नी शुची ने गुरु बृहस्पति के कहने पर देवराज इंद्र की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधा था इस रक्षा सूत्र की वजह से ही देवराज इंद्र की विजय हुई। रक्षाबंधन का त्यौहार हर साल खुशियों के साथ आता है। पूरा साल बहने इस दिन का भाइयों के घर जाने का इंतजार करती हैं। लेकिन इस साल कोरोना संक्रमण की वजह से भाई बहनों के इस पवित्र त्यौहार को बहुत ही साधारण तरीके से मनाया जा रहा है। क्योंकि जरूरत के बिना कहीं भी ट्रबल करना मना है ।भाई-बहन भले ही कितनी दूर हो पर उनका प्यार हमेशा एक दूसरे के साथ बना रहेगा।

About

x

Check Also

क्यों मनाते है नाग पंचमी ? कैसे उठाएं सभी राशि वाले इसका लाभ एवं क्या है पूजन विधि?

00 क्यों मनाते है नाग पंचमी- हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। हिन्दू पंचांग के अनुसार ...