March 3, 2021
आगरा क्राइम पॉलिटिक्स सरकार

‘चीट इंडिया’ के चक्रव्यूह में बुरी फंस गई आगरा पुलिस

साल 2019 में इमरान हाशमी की एक फिल्म आई थी वाई चीट इंडिया। फिल्म में मास्टरमाइंड राकेश यानि इमरान प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिए पेपर आउट कराता है। पैसे लेकर उनकी सीट पक्की करता था। आउट पेपर को वो सीधे बच्चे या उसके परिजनों को नहीं देता था बल्कि कई चरणों में घूमने के बाद पेपर परीक्षार्थी के पास पहुंचा था। बरसों की मेहनत के बाद जब पुलिस राकेश तक पहुंची तो उसके घर के एक कमरे में नोट भरे हुए थे। पुलिस उसे गिरफ्तार कर लेती है। पेपर आउट करने के इस नेटवर्क में तमाम सफेदपोश शामिल रहते थे।

कुछ ऐसा ही हो रहा ताजनगरी में आउट हुए केंद्रीय शिक्षा पात्रता परीक्षा (सीटेट) के पेपर के साथ। ये पेपर किस शहर में और किस व्यक्ति ने आउट किया था, इस सवाल का जवाब नहीं मिल पा रहा है। आगरा से गाजीपुर तक तमाम शहरों में शातिरों के चक्रव्यूह में पुलिस फंस गई है। पुलिस जिसे भी हिरासत में ले रही है, सभी का कहना है कि उन्हें तो पेपर किसी अन्य व्यक्ति से मिला था। पुलिस ने भी माथा पकड़ लिया है।

रविवार को सीटीईटी का आयोजन किया गया था। दो पालियों में आयोजित इस परीक्षा की पहली पाली सुबह साढ़े नौ बजे शुरू हुई लेकिन ताजनगरी के निवासी मोहित यादव पर यह पेपर सुबह साढ़े सात बजे ही पहुंच गया था। पेपर भी पूरी तरह से सॉल्व किया हुआ था। मोहित के अनुसार उसने अपने मित्र कुलदीप को यह पेपर दिया। कुलदीप से यह पेपर एपेक्स कैरियर क्लासेज कोचिंग के शिक्षक प्रभात शर्मा के पास पहुंचा और उसने कोचिंग संचालक विकास शर्मा को यह पेपर दे दिया।

विकास ने ही अपलोड किया था पेपर
पुलिस के अनुसार कोचिंग संचालक विकास शर्मा ने ही इस पेपर को एक व्हॉट्सएप ग्रुप पर अपलोड कर दिया। जिसका एडमिन वो खुद ही था। पुलिस ने इन दोनों युवकों के साथ कई अन्य लोगों को पूर्व में ही हिरासत में ले लिया है। इन युवकों ने पुलिस को जो भी बताया, उसी के आधार पर जांच दल अपनी कार्रवाई आगे बढ़ रहा है। सभी कड़ियों को जोड़ कर पुलिस गाजीपुर पहुंच गई लेकिन हाथ अभी तक खाली हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *