March 3, 2021
Trending आगरा सेहत

बनने लगीं एंटीबॉडी, दूसरी डोज करेगी बूस्ट

एसएन मेडिकल कॉलेज में रिसर्च की सूरत में लगभग दो दर्जन लोगों की वैक्सीन लगने के बाद एंटीबॉडी की जांच की गई हैं। इसमें राहत की बात सामने आई है। वैक्सीन अपना असर दिखा रही है। इन सभी लोगों में कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी पाई गई हैं। हालांकि अभी दूसरी डोज लगना बाकी है। यह बूस्टर डोज की तरह काम करेगी। इसके बाद बीमारी से बचाव के लिए पर्याप्त एंटीबॉडी बनेंगी।

पहले ये जान लीजिए कि वैक्सीनेशन के तुरंत बाद प्रोटेक्शन नहीं मिलता है। ऊपर से वैक्सीन की दो डोज हैं। पहली डोज के 28 दिन बाद दूसरी डोज है। इसके बाद भी चार सप्ताह लग सकते हैं। इसलिए वैक्सीन लगते ही मास्क और दूसरे नियमों का पालन करना न छोड़ दें। कोविड-19 के खिलाफ जंग अब अंतिम दौर में है। नए मामले आना बंद हो रहे हैं। इधर वैक्सीन को लेकर भी एक अच्छी खबर है। एसएन मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग के डा. प्रभात अग्रवाल ने बताया कि 16 जनवरी को जिन लोगों को वैक्सीन लगाई गई थी, ऐसे करीब दो दर्जन लोगों की जांच कर एंटीबॉडी देखी गई हैं। लोगों में एंटीबॉडी बन रही हैं। हालांकि अभी इन्हें दूसरी डोज लगनी है तो पर्याप्त संख्या में एंटीबॉडी बनेंगी।

एक साल बाद इस मुकाम पर पहुंचे, अब कोई गलती न करें
एक्सपर्ट्स का कहना है कि एक साल तक चली लंबी लड़ाई के बाद हम इस मुकाम पर पहुंचे हैं। इसलिए अभी कोई ऐसी गलती न करें जिससे आप संक्रमण का शिकार हो जाएं। जिन लोगों में प्रोटेक्शन बन जाएगा, इम्युनिटी हो जाएगी, उनसे फिर दूसरे लोगों को संक्रमण नहीं होगा। इसलिए अभी मास्क, सैनेटाइजर, हैंडवॉश, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे सभी नियमों का पालन करते रहें।

कैसे खत्म होगा कोरोना ?
डा. प्रभात अग्रवाल ने बताया कि एंटीबॉडी दो तरह से शरीर में पाई जा रही हैं। एक तो वे लोग जिन्हें पहले कोरोना हो चुका है और दूसरे वो जिन्हें वैक्सीन दी जा रही है। जिन्हें कोरोना हो चुका है उन लोगों में एंटीबॉडी दो से छह महीने तक रह सकती है, लेकिन जिन्हें वैक्सीन दी जा रही है उनमें यह डेढ़ साल तक रहेंगी। इन हालातों में नए मामले नहीं आएंगी और कोरोना का फैलाव नहीं होगा। नए मामले न आने और संक्रमण न फैलने पर कोरोना खत्म हो जाएगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *