March 5, 2021
आगरा पॉलिटिक्स

पंचायत चुनाव में दलबदलुओं पर दांव नहीं खेलेगी भाजपा

  • मंत्री, सांसद और विधायकों के रिश्तेदारों को नहीं मिलेगी टिकट
  • पन्ना प्रमुख व्यवस्था को अब और अधिक मजबूत करने पर जोर

भाजपा ने पंचायत चुनावों के साथ ही विधानसभा चुनाव की भी तैयारियां प्रारंभ कर दी हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने स्पष्ट कर दिया है कि पंचायत चुनाव में मंत्री, सांसद व विधायक अपने किसी भी रिश्तेदार को प्रत्याशी बनाने को पार्टी पर दबाव नहीं बनाएंगे और न ही वे अपने किसी परिचित प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करेंगे। वे केवल पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के पक्ष में ही प्रचार करेंगे और उसको जिताने के लिए जुटेंगे। पंचायत चुनाव में पार्टी का परचम फहराने के बाद संगठन विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटेगा। हालांकि जो विधानसभा क्षेत्र पंचायत चुनाव की परिधि में नहीं आते हैं, वहां पर अभी से बूथ इकाइयों की मजबूती के लिए कार्यक्रम चलाए जाएंगे।

दो दिन के दौरे पर पहुंचे राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी पदाधिकारियों, कोर ग्रुप, क्षेत्रीय टीमों के साथ अलग-अलग बैठकें कर विधानसभा चुनाव की तैयारियों में अभी से जुटने का आह्वान किया। पंचायत चुनाव को लेकर भी समीक्षा की गई। राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा के रूख से साफ है कि पार्टी पंचायत चुनाव में कार्यकर्ताओं पर दांव खेलेगी। मंत्री, सांसद और विधायकों के रिश्तेदारों को चुनाव मैदान में नहीं उतारा जाएगा। पंचायत चुनाव के लिए प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया भी जल्द शुरू कर दी जाएगी। हालांकि अभी जिला स्तर पर दावेदारों के नामों का एकत्रीकरण चल रहा है। इन दावेदारों के बारे में संगठन और अन्य माध्यमों से जानकारियां एकत्रित की जा रही है। पार्टी से साफ कर दिया है कि पंचायत चुनाव में दलबदलुओं को स्थान नहीं दिया जाएगा।

संगठन का सारा जोर बूथ समितियों की मजबूती पर है। साथ ही पन्ना प्रमुखों की सक्रियता बढ़ाने पर भी अब ध्यान दिया जाएगा। मंडल पदाधिकारियों को स्पष्ट कहा गया है कि वे हर महीने कम से कम एक दिन बूथ पर बिताएं। हर बूथ के कार्यों की समीक्षा की जाए। बूथ इकाइयों में युवा और ग्रामीणों को जोड़ने का लक्ष्य भी दिया गया है। जिला इकाई के पदाधिकारी भी हर मंडल में प्रवास करेंगे।

तीस लोगों से जुड़ेगा हर पन्ना प्रमुख
विधानसभा चुनाव से पहले हर घर से जुड़ने का लक्ष्य तय किया गया है। इसके लिए पार्टी ने पन्ना प्रमुखों की सक्रियता को बढ़ाने के लिए कार्यक्रम तय किए हैं। अब हर पन्ना प्रमुख अपने लिस्ट के कम से कम तीस मतदाताओं के सीधे संपर्क में रहेगा। नेतृत्व ने पन्ना प्रमुखों से कहा है कि वे इन तीस लोगों के दुख-सुख में शामिल हों।

जनता के बीच पहुंचाएंगे योजनाएं
बूथ अध्यक्षों के जरिए पार्टी केंद्र व प्रदेश सरकार की कल्याणकारी नीतियों को पहुंचाएगी। साथ ही प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम का और अधिक प्रसार करने की योजना तैयारी की गई है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *