March 3, 2021
आगरा क्राइम ताजा

भाजपाई ने नौकरानी से की अश्लील हरकत

  • मुंह लगे भाजपा नेता को बचाने के लिए समझौते के प्रयास में है पुलिस
  • महिलाओं की तत्काल रिपोर्ट दर्ज के आदेश को भी ताक पर रख दिया

यह आरोप भाजपा से जुड़े एक व्यक्ति पर लगा है, शायद इसीलिए पीड़ित लड़की की रिपोर्ट तत्काल दर्ज करने के बजाय पुलिस उसे बचाने के रास्ते खोज रही है। अगर इसकी जगह कोई आम आदमी होता तो क्या तब भी पुलिस ऐसा ही करती। शायद कदापि नहीं, महिला की तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज होता और आरोपी सलाखों के पीछे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश तो कुछ इसी तरह के हैं कि महिलाओं पर अपराध के मामले में पुलिस तत्काल रिपोर्ट दर्ज करे। भाजपा के सह मीडिया प्रभारी ऋषि अग्रवाल पर लगे आरोपों के मामले में कमला नगर थाना पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था को भी ताक पर रख दिया है।

ऋषि अग्रवाल बल्केश्वर का निवासी है। उसके घर में एक युवती पिछले काफी वर्षाें से काम कर रही थी। नौकरानी की मां अपार्टमेंट में ही कपड़ों पर प्रेस करने का काम करती है। ऋषि के घर काम करने वाली युवती ने बीते कल कमला नगर थाने पर पहुंचकर शिकायत की कि जब वह ऋषि के घर में काम करने जाती है तो वह अंडरवियर पहनकर घूमता है।

उसने इस बात का विरोध किया तो उसने आगे से ऐसा न करने को कहा। युवती ने पुलिस को दी तहरीर में कहा कि एक दिन ऋषि ने उससे कहा कि तू मेरे साथ घूमने चल। इस बात पर उसकी ऋषि से कहासुनी हो गई। उसने काम पर जाना बंद कर दिया। बाद में ऋषि ने उससे माफी मांगी और काम पर लौटने को कहा। वह फिर से काम पर जाने लगी। कुछ दिन तो सभी कुछ सही चला। एक दिन ऋषि ने उसके साथ अश्लील हरकत कर दी। उसके साथ छेड़छाड़ कर दी। उसने फिर से काम पर जाना बंद कर दिया। उसने यह बात अपनी मां और छोटी बहन को भी बताई। छोटी बहन ने बताया कि उसने भी ऋषि के घर से इसी कारण से काम छोड़ा था। उसने इज्जत के कारण किसी को यह बात नहीं बताई।

युवती की मां ने इस हरकत के लिए ऋषि से आपत्ति जताई तो उसने उसकी मां का प्रेस की काउंटर को उलट दिया। इसके बाद पीड़िता ने दीवानी पहुंचकर एक अधिवक्ता को अपनी आपबीती बताई। एक शिकायती पत्र थाने लेकर गई। युवती ने नए समीकरण से बातचीत में खुद के साथ अश्लील हरकत को दोहराते हुए कहा कि जब वह ऋषि के घर पर होती थी तो वह निरंतर अश्लील इशारे किया करता था, लेकिन परिवार के भरण पोषण के लिए काम की जरूरत की वजह से वह इन हरकतों को अनदेखी कर रही थी। जब उसने हद पार की तो उसे पुलिस में शिकायत देनी पड़ी। पीड़िता की शिकायत पर थाना पुलिस ने तत्काल रिपोर्ट दर्ज करने के बजाय ऋषि अग्रवाल को फोन पर जानकारी देकर उसे थाने में ही बुला लिया। ऋषि अग्रवाल को खुद के खिलाफ तहरीर की जानकारी हुई तो उसने भी अपनी पत्नी के माध्यम से एक शिकायती पत्र थाना पुलिस को दे दिया, जिसमें कहा गया है कि नौकरानी काम के प्रति लापरवाही बरत रही थी। उसे काम से हटाया तो उसने अपने भाई और कुछ साथियों को बुलाकर अभद्रता की।

कमला नगर थाना पुलिस ने दोनों पक्षों को थाने बुलाया और इस दौरान ऋषि के साथ आए लोगों ने नौकरानी और उसके परिवार पर दबाव बनाया, लेकिन नौकरानी ने किसी प्रकार से समझौते से मना कर दिया। जब मामले में राजीनामा नहीं हुआ तो पुलिस ने एक दिन बाद का समय दिया। आज दोपहर फिर से दोनों के परिजनों को थाने पर बुलाया गया है। पुलिस को मामला राजनीतिक स्टंट लग रहा है। चूंकि ऋषि अग्रवाल भाजपा महानगर टीम की सह मीडिया प्रभारी के पद पर है। ऋषि के बारे में बताया जा रहा है कि वह कभी तो खुद को मीडियाकर्मी बताता है तो कभी भाजपा नेता।

थाने पर तैनात पुलिसकर्मियों से भी उसकी गलबहियां चर्चा का विषय रहती हैं। शायद इसी वजह से मुकद्मा दर्ज करने की बजाय पुलिस समझौते पर जोर दे रही है। युवती का का कहना है कि गरीब की कोई नहीं सुन रहा है। थाने पर कभी कहा गया कि मैडम आ रही हैं तो कभी कहा गया सर आ रहे हैं, लेकिन आरोपी पर कोई एक्शन नहीं हुआ। अगर थाने पर सुनवाई नहीं हुई तो वह अधिकारियों के पास जाएगी। इंसपेक्टर नरेंद्र शर्मा का कहना है कि चूंकि दोनों पक्षों से तहरीर आई हैं। दोनों की जांच महिला इंसपेक्टर गीता सिंह कर रही हैं। जो भी सच होगा, उसके हिसाब से कार्रवाई की जाएगी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *