February 25, 2021
आगरा कैरियर शिक्षा

विवि में हुए तबादलों से कर्मचारी राजनीति गर्माई

डा. भीमराव आंबेडकर विवि के संबद्धता विभाग में हुए स्थानांतरण विश्वविद्यालय में चर्चा का विषय बने हुए हैं। स्थानांतरित हुए कर्मचारी इसे अपने ही विभाग के साथी कर्मचारियों के षड्यंत्र का हिस्सा मान रहे हैं। वहीं स्थानांतरण के बाद खाली हुई सीट पर जाने के लिए विश्वविद्यालय के कर्मचारियों ने पेशबंदी शुरू कर दी है। विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अखिलेश चौधरी ने कहा है कि कुलसचिव का जोर केवल स्थानांतरण पर है। कर्मचारियों के प्रमोशन कई सालों से अटके हुए हैं। इसे लेकर शीघ्र ही विवि प्रशासन के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा।

कुलसचिव द्वारा संबद्धता विभाग में कार्यरत कनिष्ठ सहायक नीलम शर्मा, सविता माथुर तथा लाखन सिंह का स्थानांतरण अन्य विभागों में कर दिया गया है। वहीं संबद्धता, आरडब्लू तथा शोध विभाग की प्रभारी अमिता पांडेय का स्थानांतरण कुलसचिव कार्यालय में कर दिया गया है। विश्वविद्यालय के कर्मचारियों का कहना है कि कुलसचिव चंद लोगों की सलाह पर मनमाने तरीके से काम कर रहे हैं। एक जाति विशेष के कर्मचारियों को जानबूझकर स्थानांतरण से अलग रखा जाता है।

कर्मचारी हित की अनदेखी कर रहे कुलसचिव- अखिलेश चौधरी

बता दें कि विश्वविद्यालय में संबद्धता विभाग में जाने के लिए विश्वविद्यालय के कर्मचारियों में होड़ लगी रहती है। जिन कर्मचारियों के संबद्धता विभाग से स्थानांतरण किए गए हैं, उनके खिलाफ कई शिकायतें की गयी थीं तथा ये कर्मचारी लंबे समय से संबद्धता विभाग में काम कर रहे थे। हालांकि इस विभाग में जो लोग उल्टे -सीधे कामों में संलिप्त हैं, उन्हें स्थानांतरण सूची से अलग रखा गया है। इसी विभाग के दो कर्मचारी कुलसचिव के काफी करीब हैं। इन दोनों कर्मचारियों को हर समय कुलसचिव के कार्यालय में बैठे देखा जा सकता है। संबद्धता विभाग से तीन कर्मचारियों के स्थानांतरण के बाद विवि के अन्य विभागों में कार्यरत तेज-तर्रार  कर्मचारियों ने संबद्धता विभाग में जाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं।

इधर विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अखिलेश चौधरी ने कुलसचिव पर कर्मचारियों के हित की अनदेखी करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि कुलसचिव कर्मचारी हित के कामों को तरजीह नहीं दे रहे। कर्मचारियों के प्रमोशन लंबे समय से लंंबित हैं। कुलसचिव चंद लोगों की सलाह पर काम कर रहे हैं। कर्मचारियों के हित की अनदेखी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *