February 26, 2021
Trending आगरा पॉलिटिक्स राष्ट्रीय

किसान आंदोलन को बल, रालोद को मिलेगी संजीवनी

  • मैदान में उतरे जयंत चौधरी करेंगे 18 फरवरी तक सिलसिलेवार जनसभाएं
  • आगरा के अकोला में 13 फरवरी को होगी महापंचायत, रणनीति बनी

भारतीय किसान यूनियन और रालोद की दोस्ती से किसान आंदोलन को धार देने की तैयारी है। इसके तहत आगरा और आस-पास के इलाकों में ताबड़तोड़ जनसभाएं और फिर महापंचायतें होंगी। हालांकि इसके कई मायने हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की राजनीति हमेशा किसान प्रभावित रही है। ऐसे में किसान आंदोलन पर चढ़ रहा यह सियासी रंग रालोद को संजीवनी भी दे सकता है।

तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन के जरिए राष्टÑीय लोकदल अपनी खोई हुई जमीन तलाशने में जुटा है, हालांकि इस आंदोलन में अन्य विपक्षी दल भी राजनीति चमकाने के प्रयास में लगे हैं, लेकिन इसका सियासी फायदा रालोद को  मिलने की संभावनाएं नजर आ रही हैं। रालोद अध्यक्ष चौ. अजित सिंह ने रालोद कार्यकताओं को किसान आन्दोलन में पूरी ताकत झोंकने के निर्देश दिये हैं। इसकी कमान रालोद उपाध्यक्ष जयन्त चौधरी ने संभाल ली है। मुजफ्फरनगर, बिजनौर और मथुरा के बाद अब जयन्त चौधरी आज से 18 फरवरी तक ताबड़तोड़ 11 जनसभाएं कर किसान आन्दोलन को मजबूत करने का काम करेंगे। रालोद अध्यक्ष चौ. अजित सिंह की किसान नेता राकेश टिकैत से बात होने के बाद किसान आन्दोलन की सूरत बदल रही है, बड़ी संख्या में आसपास के जिलों से रालोद कार्यकर्ता और किसान गाजीपुर बॉर्डर पहुंच रहे हैं।

गौरतलब है कि 26 जनवरी को लाल किले की घटना के बाद जब चारों तरफ से किसान आंदोलन को दबाने की कोशिशें हुर्इं तो एक बार लगा था कि अब ये आंदोलन इतिहास बनकर रह जाएगा, मगर 28 जनवरी की रात गाजीपुर बॉर्डर पर रोते हुए राकेश टिकैत ने जब भावनात्मक अपील की तो वहीं से किसान आंदोलन ने फिर पलटी मार दी। इसके बाद से महापंचायतों में भाकियू और रालोद की दोस्ती का रंग चटक होने लगा है। ऐसे में किसान आंदोलन पर चढ़ रहा यह सियासी रंग रालोद को संजीवनी भी दे सकता है।

आगरा महापंचायत को लेकर रणनीति बनी
आगरा के अकोला की किसान महापंचायत को सफल बनाने के लिए राष्ट्रीय लोकदल के नवनियुक्त ब्रज प्रदेश अध्यक्ष चौधरी बदन सिंह गुरुवार को आगरा आए थे और उन्होंने पार्टी जनों के साथ महापंचायत को सफल बनाने के लिए मंत्रणा की। कहा कि किसान आंदोलन को सफल बनाने के लिए पूरी ताकत झोंक दें।
21 सदस्यीय कमेटी बनी
अकोला की महापंचायत के लिए पूर्व प्रदेश महासचिव चौ. गोपीचंद को महापंचायत का संयोजक बनाया गया है। इसके अलावा 21 सदस्यीय संयोजन समिति का गठन किया गया है। बैठक में चौ गोपीचंद, मण्डल अध्यक्ष नरेन्द्र बघेल, पूर्व प्रदेश प्रवक्ता कप्तान सिंह चाहर, रामेन्द्र सिंह परमार, जयपाल सिंह खिरवार, चौ. रामवीर सिंह, सुरेन्द्र सिंह रावत, लोचन चौधरी, मानव चौधरी, दुर्गेश शुक्ला, डा. नेत्रपाल सिंह, गंगा राम पैलवार, नरेश चौधरी, भोला चौधरी, प्रवीन माहौर, यदुवीर सिंह चाहर, गोविन्द सिंह, सुरेन्द्र चाहर, चौधरी बच्चू सिंह, रिषिकेश राना, मयंक खिरवार आदि मौजूद थे। बैठक की अध्यक्षता पूर्व जिला अध्यक्ष फौरन सिंह इन्दौलिया ने, संचालन संजय फौजदार ने किया।
यहां भी हो रहीं जनसभाएं
मुजफ्फरनगर बिजनौर व मथुरा के बाद जयंत चौधरी पश्चिमी उत्तर प्रदेश राजस्थान के भरतपुर में ताबड़तोड़ किसान महापंचायत करने जा रहे हैं। पांच फरवरी को शामली के भैंसवाल, सात फरवरी को अमरोहा, नौ फरवरी को गोंडा (अलीगढ़), 10 फरवरी को खुर्जा (बुलंदशहर ), 12 फरवरी को बलदेव (मथुरा), 13 फरवरी को अकोला (आगरा) 14 फरवरी को भरतपुर (राजस्थान), 15 फरवरी को सादाबाद (हाथरस), 16 फरवरी को शेरगढ़ (मथुरा), 17 फरवरी छाता (मथुरा), 18 फरवरी को गोवर्धन (मथुरा) में किसानों की महापंचायत करेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *