February 26, 2021
कारोबार कैरियर राष्ट्रीय

सरकार के नए प्रोग्राम से रोजगार को लगेंगे पंख

कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय फेलोशिप कार्यक्रम लॉन्च किया है। यह कार्यक्रम जिला कौशल प्रशासन और जिला कौशल समितियों (डीएससी) को मजबूत करने के लिए है। यह विश्व बैंक ऋण सहायता कार्यक्रम (आजीविका संवर्धन के लिए कौशल अधिग्रहण और ज्ञान जागरूकता) संकल्प के तहत एक कार्यक्रम है। यह जिला कौशल प्रशासन और जिला कौशल समितियों (डीएससी) को और मजबूत करेगा।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय फैलोशिप दो वर्षीय शैक्षणिक कार्यक्रम है। यह जिला प्रशासन के साथ आॅन-ग्राउंड व्यावहारिक अनुभव के एक इनबिल्ट कॉम्पोनेन्ट के साथ है। एमजीएनएफ के तहत फेलोज को डीएससीएस के साथ संलग्न होने के साथ-साथ पूरे स्किल ईकोसिस्टम को समझने में एकेडमिक विशेषज्ञता और तकनीकी दक्षता प्राप्त होगी। साथ ही जिला कौशल विकास योजनाओं के निर्माण के तंत्र के माध्यम से जिला स्तर पर कौशल विकास योजना का प्रबंधन करने में मदद मिलेगी।

एमजीएनएफ के पहले पायलट में 69 जिलों में 69 फेलोज काम कर रहे थे। मंत्रालय अब एमजीएनएफ का विस्तार देश के सभी शेष जिलों में कर रहा है। एमजीएनएफ में अकादमिक उत्कृष्टता और प्रतिष्ठा के स्तर को बनाए रखने के लिए, मंत्रालय ने केवल आईआईएम के साथ एकेडमिक साझेदारी की है। एमजीएनएफ के राष्ट्रीय स्तर के लॉन्च के लिए नौ आईआईएम के साथ भागीदारी की गई है, जिनमें आईआईएम बैंगलोर, अहमदाबाद, लखनऊ, कोझीकोड,  विशाखापत्तनम, उदयपुर, नागपुर, रांची और आईआईएम जम्मू शामिल हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *