June 15, 2021
कारोबार राष्ट्रीय सरकार

कोरोना काल में अनाज का निर्यात 53 फीसदी तक बढ़ा

आपदा को अवसर में बदलने की सोच के साथ काम रही भारत सरकार ने कोरोना काल में देश के कृषि उत्पादों के निर्यात के क्षेत्र में सराहनीय प्रगति दर्ज की है। चावल, गेहूं और मोटे अनाजों के नियात में बीती तीन तिमाहियों में करीब 53 फीसदी का इजाफा हुआ है। खासतौर से गैर-बासमती चावल का निर्यात पिछले साल के मुकाबले करीब 123 फीसदी बढ़ा है जबकि गेहूं के निर्यात में 456 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान आरंभिक नौ महीनों में 22,856 करोड़ रुपये (306.8 करोड़ डॉलर) मूल्य का गैर-बासमती चावल का निर्यात किया है, जो पिछले साल के मुकाबले रुपये के मूल्य में 122.61 फीसदी ज्यादा है, जबकि डॉलर के मूल्य में गैर-बासमती चावल का निर्यात पिछले साल111.81 फीसदी बढ़ा है।

पिछले वित्तवर्ष 2019-20 में देश से 10,268 करोड़ रुपये (144.8 करोड़ डॉलर) मूल्य का गैर-बासमती चावल का निर्यात हुआ था। भारत नेपाल, बेनीन, संयुक्त अरब अमीरात, सोमालिया, गिनिया के अलावा एशिया और यूरोप के कई देशों व अमेरिका को निर्यात करता है। हालांकि, बासमती चावल का निर्यात चालू वित्तवर्ष में अप्रैल से दिसंबर के दौरान करीब 22,038 करोड़ रुपये (294.7 करोड़ डॉलर) मूल्य का हुआ जोकि पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले रुपये के मूल्य में 5.31 फीसदी जबकि डॉलर के मूल्य में 0.36 फीसदी का इजाफा हुआ है। पिछले वित्तवर्ष के दौरान आरंभिक नौ महीनों में 20,926 करोड़ रुपये (293.6 करोड़ डॉलर) मूल्य का बासमती चावल निर्यात हुआ था। भारत बासमती चावल का निर्यात मुख्य रूप से ईरान, सऊदी अरब, इराक, संयुक्त अरब अमीरात, कुवैत और यूरोपीय देशों को करता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *