February 26, 2021
आगरा क्राइम ताजा पॉलिटिक्स

मिलिए एक बिगड़ैल से

  • पूर्व मंत्री के प्रतिनिधि रहे नेता के बेटे ने युवती को कार में बंद कर बेरहमी से पीटा
  • गिरफ्तारी के लिए पीछे लगी पुलिस को उसने इंस्टाग्राम से दे दी सीधी चुनौती

एक ओर तो इकलौता बेटा। दूसरी ओर पिता की कमाई करोड़ों की संपत्ति। दोनों के गठजोड़ ने बेटे की इतना बिगाड़ दिया कि आज वह जेल की सलाखों के पीछे जा पहुंचा है। एक पूर्व मंत्री के प्रतिनिधि रहे नेता के बेटे को हरीपर्वत पुलिस ने जेल भेजा है। उस पर युवती के साथ छेड़छाड़ और मारपीट करने का मुकद्मा दर्ज है। गंभीर अपराध करने के बाद इस बिगड़ैल शहजादे ने पुलिस तक को चुनौती दे दी थी। थाने पहुंचने के बाद भी उसकी अकड़ ढीली नहीं हो रही थी। जब उसे हवालात में ठूंसा गया तो दिन में ही तारे नजर आने लगे।

बता दें कि बसपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे नारायन सिंह सुमन के प्रतिनिधि रह चुके अवनींद्र सोलंकी का उस दौर में जलवा था। उनका इकलौता बेटा शिवम सोलंकी पिता की दौलत और शोहरत की चकाचौंध में उड़ने लगा था। इन दिनों वह फॉर्च्यूनर गाड़ी में चलता था। रामनगर कॉलोनी की रहने वाली एक युवती से उसकी मित्रता थी। 26 दिसंबर को शिवम ने युवती को फोन कर रामनगर कॉलोनी में ही बुलाया और अपनी गाड़ी में बैठा लिया। गाड़ी के अंदर दोनों के बीच विवाद हुआ। युवती का आरोप है कि शिवम ने छेड़छाड़ तो की ही। मारपीट भी शुरू कर दी। उसने गाड़ी को लॉक कर लिया था। युवती ने कार से निकलने का प्रयास किया तो शिवम ने उसके बाल पकड़ लिए और उसका सिर पकड़कर डैशबोर्ड में मार दिया। लात-घूसों से भी वार किए। शिवम की वहशियाना हरकत से युवती को काफी चोटें आई हैं। कुछ लोगों को अपनी कार की ओर आता देखकर शिवम ने युवती को कार से धक्का देकर बाहर निकाला और कार को दौड़ा ले गया।

चोटिल हालत में यह युवती अपने घर पहुंचे और परिजनों को सारी बात बताई। परिजन उसे लेकर तत्काल थाना हरीपर्वत पहुंचे और शिकायत दर्ज कराई। परिजनों ने आईजी रेंज आगरा ए सतीश गणेश से भी शिकायत की। आईजी ने हरीपर्वत पुलिस को इस मामले में गंभीरता से कार्रवाई कर आरोपी को जल्द पकड़ने को कहा।

उधर मुकदमा दर्ज होने के बाद आरोपी शिवम ने अपने फोन बंद कर दिये और आगरा से बाहर जाकर नोएडा और गाजियाबाद के सितारा होटलों में रहने लगा। हरीपर्वत पुलिस उसके पीछे लगी हुई थी। पुलिस ने उसका सोशल मीडिया का अकाउंट खंगाला तो उसका सुराग मिल गया।

पुलिस उसकी तलाश में नोएडा पहुंच गई। वहां भी वह फॉच्यूर्नर गाड़ी में था। पुलिस को देखते ही उसने गाड़ी बैक की। हड़बड़ी में गाड़ी पीछे की ओर दीवार में जा घुसी। इसके बाद कई बाइकों को टक्कर मारते हुए गाड़ी को तेजी से सड़क पर दौड़ा दिया। पुलिस के मुताबिक शिवम नोएडा से आगरा आ गया था। मोबाइल लोकेशन मिलने के बाद आईएसबीटी से उसे दबोच लिया गया।

मुझे पकड़ना है तो फौज भेजो
नोएडा में घेरेबंदी के बाद भी शिवम पुलिस के हाथ नहीं लग सका। वह कितना दुस्साहसी है, इसका अंदाजा इसी से लगता है कि पुलिस की पकड़ से बाहर आने के बाद उसने पुलिस को चुनौती के अंदाज में इंस्टाग्राम पर लिखा- ‘किन लोगों को पकड़ने के लिए भेजा है। मुझे पकड़ने के लिए तो पूरी फौज चाहिए।’ शिवम के इस कमेंट से आगरा पुलिस तिलमिला उठी। इंसपेक्टर हरीपर्वत अजय कौशल ने नोएडा गई पुलिस टीम से कहा कि अब तो आगरा तभी वापस आना जब इस बिगड़ैल को गिरफ्तार कर लो। इस बीच शिवम ने अपना मोबाइल खोल लिया। पुलिस लगातार लोकेशन ट्रेस कर रही थी। वह आगरा में थी। पुलिस लोकेशन के हिसाब से उसके पास तक पहुंच गई और शिवम पुलिस टीम के हत्थे चढ़ गया।

मुंहमांगी रकम का ऑफर
शिवम कितना बिगड़ैल है, इसका अंदाजा इससे भी लगता है कि पुलिस हिरासत में आने के बाद भी इसके तेवर ढीले नहीं पड़े थे। चौकी इंचार्ज दिल्ली गेट ने बताया कि पुलिस टीम को खरीदने का खुला ऑफर देते हुए शिवम ने कहा- छोड़ने के एवज में मुंहमांगी रकम दूंगा। पुलिस उसे आगरा लेकर आ गई। हरीपर्वत थाने की हवालात में पहुंचने के बाद आरोपी की अकड़ ढीली हो चुकी थी। अब वह जेल में है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *