February 26, 2021
Trending कारोबार राष्ट्रीय सरकार

अब डिजिटल करेंसी लाएगा रिजर्व बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर बीपी कानूनगो ने कहा कि आरबीआई की आंतरिक समिति केंद्रीय बैंक की डिजिटल मुद्रा जारी करने के तौर-तरीकों पर गौर कर रही है और बहुत जल्द इस बारे में अपनी सिफारिश देगी। आरबीआई ने पूर्व में आधिकारिक रूप से डिजिटल मुद्रा लाने की घोषणा की थी। बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी की बढ़ती लोकप्रियता के बीच यह घोषणा की गई थी।

इस मुद्रा को लेकर आरबीआई की कई चिंताएं हैं। सरकार ने पिछले सप्ताह निजी क्रिप्टोकरेंसी बंद करने के लिए कदम उठाया था। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि डिजिटल मुद्रा के संदर्भ में, मुझे लगता है कि हम पहले ही दस्तवेज जारी कर चुके हैं। हमारा डिजिटल भुगतान दस्तावेज यह बताता है कि आरबीआई में डिजिटल मुद्रा पर काम जारी है। कानूनगो ने कहा कि डिजिटल मुद्रा शुरू करने के बारे में मौद्रिक नीति समिति कुछ समय पहले ही घोषणा की थी। उन्होंने कहा कि हमारी एक समिति इस पर गौर कर रही है। वास्तव में एक आंतरिक समिति इस पर ध्यान दे रही है। समिति केंद्रीय बैंक की डिजिटल मुद्रा के मॉडल के बारे में निर्णय करेगी और इस बारे में आपको जल्दी ही सूचना सुनने को मिलेगी। हाल के समय में निजी डिजिटल मुद्रा/ऑनलाइन मुद्रा/क्रिप्टो करेंसी की लोकप्रियता बढ़ी है।

इस बीच भारतीय रिजर्व बैंक ने वृद्धि-उन्मुख समायोजन (ग्रोथ ओरिएंटेड एडजस्टेबल) रुख के साथ-साथ अपनी प्रमुख अल्पकालिक उधार दरों को बरकरार रखा। आरबीआई ने अपनी नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं किया और अपने रुख को नरम रखा है। तदनुसार, केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने वाणिज्यिक बैंकों के लिए रेपो दर या अल्पकालिक उधार दर को 4 प्रतिशत पर बरकरार रखा है। इसी तरह रिवर्स रेपो दर भी 3.35 प्रतिशत बनी हुई है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *