March 5, 2021
Trending आगरा कारोबार सेहत

वैक्सीन के लिए आए, वोटर की तरह लौटे

  • जिले में मतदान जैसी है टीकाकरण की प्रक्रिया, मतदान जैसा ही प्रतिशत
  • 26 बूथों पर शुक्रवार को दिखा वोटिंग जैसा माहौल, लोगों का जोश हाई है

पोलिंग पार्टियों की तरह, वैक्सीन को बूथों की ओर रवाना किया जा रहा है। पुलिस सुरक्षा के बीच वैक्सीन पहुंचाई जा रही है, वैक्सीन लगवाई जा रही है। बूथों पर वैरीफायर, मोबलाइजर, नोडल अधिकारी तैनात हैं। लोग कागज दिखा रहे हैं, वैक्सीन लगवा रहे हैं और घर की ओर रवाना हो रहे हैं। जिले में टीकाकरण अभियान मतदान की तरह ही चल रहा है। यह पूरी प्रक्रिया मतदान की तरह ही है और इसका प्रतिशत भी उसी तरह है।

जिले में वैक्सीनेशन का प्रतिशत दूसरे राउंड में 51.65  रहा। 26 केंद्रों पर 3700 लोगों को बुलाया गया था, लेकिन 1907 लोगों ने ही बूथ पर पहुंचकर वैक्सीन लगवाई। इस बार भी सबसे कम लोग एसएन मेडिकल कॉलेज के बूथ पर पहुंचे जहां चार बूथों पर 400 स्वास्थ्य कर्मी बुलाए गए थे। इनमें से 118 ने ही टीके लगवाए। पिछली बार भी यहां टीकाकरण का प्रतिशत सबसे कम था, इसलिए इस बार जिन लोगों को वैक्सीन लगाई जानी थी, उन्हें मेसेज भेजने के अलावा प्राचार्य कार्यालय से फोन कराए गए। इससे पहले मेडिकल कॉलेज के जो विभागाध्यक्ष पहले राउंड में टीकाकरण करा चुके थे उन्होंने समझाने के भी प्रयास किए कि टीका लगवाकर वे एकदम ठीक हैं, पहले की तरह ही अपना काम कर रहे हैं और यह एकदम सुरक्षित है। इसके उलट निजी अस्पतालों में टीकाकरण के लिए डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों का जोश हाई था। सुबह 10 बजे से ही टीकाकरण के लिए आने वालों की लाइन लगने लगी थी। लोग आ रहे थे, अपना वैरीफिकेशन करा रहे थे और फिर उन्हें वैक्सीन लगाई जा रही थी।

वैक्सीन लगवाई या नहीं ?

इन दिनों शहर का माहौल भी मतदान के दिनों जैसा ही है। लोग एक-दूसरे से सवाल करते नजर आ रहे हैं कि वैक्सीन लगवाई या नहीं। कुछ लोग सबसे पहले भरोसा का टीका लगवा रहे हैं, जबकि कुछ अभी इंतजार कर रहे हैं।

सेल्फी और फोटो नहीं तो वैक्सीन नहीं

वैक्सीनेशन केंद्रों पर लोग पूरे इंतजामों के साथ पहुंच रहे हैं। फोटो और सेल्फी का शौक सिर चढ़कर बोल रहा है। सबसे पहले जेब से मोबाइल निकालते हैं। अधिकतर केंद्रों पर व्यवस्थापकों के हाथ में मोबाइल पकड़ाकर फोटो खींचने की गुजारिश की जा रही है, जहां कोई नहीं है वहां खुद ही सेल्फी ले रहे हैं।

म्यूजिक और लॉफ्टर थैरेपी दे रही राहत

कोविड-19 टीकाकरण के लिए कई जगह बूथों पर कुछ विशेष प्रकार की व्यवस्थाएं भी की गई हैं। स्वास्थ्य विभाग ने भी इसकी अनुमति दी है। बूथों पर साउंड सिस्टम लगाए गए हैं। लोगों को म्यूजिक और लॉफ्टर थैरेपी दी जा रही है। इससे लोगों का ध्यान भटक रहा है। वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को 30 मिनट के आॅब्जर्वेशन पीरियड में म्यूजिक और लॉफ्टर थेरेपी दी जा रही है।

शिद्दत से था इंतजार, अब बेरुखी ?

कोरोना वायरस ने दुनिया की बड़ी-बड़ी व्यवस्थाओं को लड़खड़ा दिया। लम्बे समय से लोग वैक्सीन का इंतजार कर रहे थे, अब जब यह आ गई है तो बेरुखी दिखाई जा रही है। इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग भी चिंतित है। जो लोग वैक्सीन लगवाने नहीं आ रहे हैं, उनके पास कई बार मेसेज पहुंच रहे हैं। उनके संस्थानों से फोन तक किए जा रहे हैं।

कई जगह बूथ सजाए गए
निजी अस्पतालों में माहौल उत्साह भरा है। यहां कोविड-19 बूथ बनाए गए हैं तो अस्पताल प्रबंधन भी पूरा सहयोग कर रहे हैं। कई जगह बूथों को बेलून और अन्य सजावट सामग्री से सजाया गया। इससे लोग अच्छा महसूस कर रहे हैं।

‘आई गॉट माई कोविड-19 वैक्सीन’
जिस तरह वोटिंग के समय होता है, ऐसे ही वैक्सीनेशन और व्यवस्था में जो लोग भरोसा जता रहे हैं, उनका जोश हाई है। टीका लगवाने के बाद लोग सबसे पहले फेसबुक पर अपना फोटो शेयर कर रहे हैं, फेसबुक स्टोरी लगा रहे हैं। व्हॉट्स एप स्टेटस सज गए हैं और डीपी का शौक सिर चढ़कर बोल रहा है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *