March 5, 2021
कारोबार राष्ट्रीय

सरकारी कंपनी के खरीदारों को पाक-चीन से संबंध बताने होंगे

सार्वजनिक क्षेत्र की बीपीसीएल, एयर इंडिया और बीईएमएल जैसी कंपनियों में सरकार की हिस्सेदारी खरीदने में दिलचस्पी रखने वाली विदेशी और भारतीय कंपनियों को सुरक्षा मंजूरी प्राप्त करने के लिए सौदे से अंतिम रूप से लाभान्वित मालिकों के बारे में खुलासा करना होगा। निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) ने अधिग्रहणकर्ता के लिए सुरक्षा मंजूरी को लेकर आवेदन का प्रारूप जारी किया है। साथ ही सुरक्षा मंजूरी के लिए स्व-घोषणा के जरिये यह भी बताना होगा कि क्यूआईपी की चीन और पाकिस्तान में किस रूप में तथा किस हद तक मौजूदगी है।

विभाग सरकार की कंपनियों में हिस्सेदारी की बिक्री का प्रबंधन का काम करता है। प्रारूप के अनुसार बोली लगाने वाली कंपनी में 10 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी हासिल करने के इच्छुक बोलीदाताओं को सुरक्षा मंजूरी के लिए संरक्षकों और सौदे से अंतिम रूप से लाभान्वित कंपनी के बारे में जानकारी देनी होगी। बोलीदाता अगर एकमात्र खरीदार है तो उसे सरकार के साथ अपने निदेशकों और भागीदारों की राष्ट्रीयता, पता, संरक्षक, जिस देश के रहने वाले हैं, वहां की विशिष्ट पहचान संख्या और पासपोर्ट संख्या साझा करना होगा। साथ ही शेयरधारकों/पात्र रुचि रखने वाला पक्ष (क्यूआईपी) के सदस्यों के बारे में जानकारी देना होगा। क्यूआईपी अगर समूह है तो उसे सभी सदस्यों के नाम, हिस्सेदारी का प्रतिशत, पता और पंजीकरण ब्योरा देना होगा। अगर कर्मचारी श्रेणी में बोली आती है तो उन्हें सुरक्षा मंजूरी से छूट हैं। हालांकि इस श्रेणी में अगर दूसरे समूह भागीदार हैं तो उन्हें कर्मचारी बोली के तहत सुरक्षा मंजूरी लेनी होगी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *