February 26, 2021
Trending स्पोर्ट्स

चौथे दिन ही लिख गई थी हार की पटकथा

भारतीय क्रिकेट टीम को चेन्नई टेस्ट के पांचवें दिन मंगलवार को चायकाल से पहले ही इंग्लैंड के हाथों 227 रनों से करारी हार मिली लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इस हार की पटकथा चौथे दिन लंच से पहले ही लिखी जा चुकी थी। अब आप कहेंगे कि कैसे? तो इससे पहले यह जानना होगा कि पहली पारी में 578 रन बनाने के बाद इंग्लैंड ने भारत की पहली पारी 337 रनों पर समेट दी थी। उसे 241 रनों की लीड मिली थी। इंग्लैंड ने भारत को फॉलोआॅन नहीं खिलाया और दूसरी पारी में 178 रन बनाकर भारत को 420 रनों का टारगेट दिया।

इंग्लिश पारी चौथे दिन लंच से पहले समाप्त हुई थी। इंग्लिश पारी के 16वें ओवर की तीसरी गेंद पर इशांत शर्मा ने डैन लॉरेंस को पगबाधा आउट किया था। यह इशांत के करियर का 300वां विकेट था। साथ ही यह दिन का 37वां ओवर था। इनमें से 21 ओवर भारत ने खेले थे और इस दौरान चार विकेट गंवाए थे।

लॉरेंस जिस गेंद पर आउट हुए थे, वह टप्पा खाने के बाद सांप की तरह विकेट में घुसी। लॉरेंस कुछ नहीं समझ सके और प्लम्ब हो गए। भारत के लिए यह खुशी का पल था लेकिन साथ ही इससे यह साबित हो गया कि भारत के लिए आगे की राह बेहद मुश्किल होने वाली है।

कुछ गेंदों से इंग्लैंड के कप्तान ने समझ लिया था कि जीत मिल जाएगी

इंग्लिश कप्तान जो रूट ने टॉस जीतकर विकेट का भरपूर लाभ उठाया। उनकी टीम ने मैच जीतने योग्य स्कोर खड़ा किया लेकिन जब विकेट टूटने लगी तो रन बनाना मुश्किल हो गया। तीसरे दिन विकेट पर बड़े-बड़े फुटप्रिंट थे। स्पिनर इसका फायदा उठाने को तैयार थे। चौथे दिन तो तेज गेंदबाजों को रिवर्स स्विंग भी मिलने लगी। यह इस मौसम में चेन्नई के लिहाज से बिल्कुल भी सामान्य स्थिति नहीं थी।

रविचंद्रन अश्विन ने छह विकेट और शाहबाज नदीम ने दो विकेट लेकर इंग्लैंड की दूसरी पारी 178 रनों पर समेट दी। इसके बाद जैक लीच ने दिन का खेल खत्म होने तक रोहित शर्मा को आउट कर भारत को बड़ा झटका दिया। साथ ही जैक लीच ने विकेट की मदद लेकर चार विकेट लिए। लीच की जिस गेंद पर रोहित आउट हुए थे, उसमें गजब का टर्न था। अगर स्पिनरों को टर्न, फुटप्रिंट्स से मदद और स्विंग गेंदबाजों को रिवर्स स्विंग मिल रही हो तो फिर भारत के लिए 420 का लक्ष्य पाना लगभग नामुमकिन था। इस मैच में इंग्लैंड के पेसरों को नौ विकेट मिले जबकि स्पिनरों ने 11 विकेट लिए।

लेकिन अगर यह कहा जाए कि इंग्लिश टीम सिर्फ अपने अच्छे खेल के कारण जीती है तो गलत होगा। उसकी जीत में भारत की खराब बैटिंग का भी योगदान है। पहली पारी में रोहित, कोहली और रहाणे का बल्ला नहीं चला। कप्तान कोहली ने मैच के बाद स्वीकार किया कि आक्रामकता का अभाव और खराब शारीरिक भाषा टीम की हार की वजह रही।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *