May 9, 2021
उत्तर प्रदेश कारोबार राष्ट्रीय सरकार

हंगामेदार रहेगा यूपी का बजट सत्र

उत्तर प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र कल से शुरू हो रहा है। 22 फरवरी को सदन में वित्त मंत्री सुरेश खन्ना वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश करेंगे। यह सत्र 10 मार्च तक प्रस्तावित है। 2022 के चुनाव से पहले योगी सरकार का अंतिम पूर्ण बजट होगा। बताया जाता है कि यूपी सरकार का इस साल का बजट काफी बड़ा होगा और इसका आकार पांच लाख करोड़ से अधिक का हो सकता है। सरकार की कोशिश है कि इसे एक चुनावी बजट के तौर पर पेश किया जाए, जबकि विपक्ष ने भी सदन में सरकार को घेरने की पूरी तैयारी कर रखी है। विपक्ष के पास कई ऐसे मुद्दे हैं जिन पर वो इस बजट सत्र में सरकार को घेरेगी।

18 फरवरी को विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत सुबह 11 बजे राज्यपाल के अभिभाषण से होगी। इस सरकार का ये अंतिम पूर्ण बजट होगा। ऐसे में इसके पूरी तरह से हंगामेदार रहने की उम्मीद काफी ज्यादा है। दरअसल, कोरोना के चलते अगस्त में जो मॉनसून सत्र बुलाया गया था, वो महज तीन दिन का ही था और ऐसे में तमाम मुद्दों पर चर्चा नहीं हो पाई थी लेकिन अब यह बजट सत्र 18 फरवरी से शुरू होकर 10 मार्च तक प्रस्तावित है। सदन में सरकार को 22 फरवरी को बजट भी पेश करना है तो जाहिर है इस बार विपक्ष ने भी अपनी तैयारी जोरदार की होगी।

किसान आंदोलन समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी में विपक्ष

विपक्ष के पास कई ऐसे मुद्दे हैं, जिन्हें लेकर वो सदन में सरकार को घेरेगी। इनमें सबसे बड़ा मुद्दा लंबे समय से जारी किसानों का आंदोलन है, जिसमें समय-समय पर विपक्षी दलों के नेता शामिल होते रहे हैं और अब जब सत्र की शुरुआत हो रही है तो भला विरोधी दल इस मुद्दे को कैसे छोड़ देंगे। इसके अलावा हाथरस की घटना भी ऐसी घटना रही है, जिस पर विपक्ष ने खूब हंगामा किया था। विपक्षी दलों के नेताओं ने तो हाथरस में जाकर धरना भी दिया था और अब जब सत्र शुरू हो रहा है तो एक बार फिर इसी मुद्दे को लेकर सरकार को घेरने की कोशिश होगी। वहीं लगातार बढ़ती आपराधिक घटनाएं, महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध और शराब से हुई मौतें, कासगंज में शराब माफिया के हमले में पुलिसकर्मी की मौत कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिन्हें विपक्ष सदन में उठाने की तैयारी कर रहा है। सपा के एमएलसी रामवृक्ष यादव का साफ तौर पर कहना है कि किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। सरकार किसानों की बात नहीं मान रही है और सपा लगातार किसानों के साथ है सदन में भी उनके मुद्दे को उठाएगी।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *