March 3, 2021
आगरा उत्तर प्रदेश कैरियर पॉलिटिक्स शिक्षा

लालच में फंसकर बर्बाद कर ली ‘जिंदगी’

  • पुलिस-प्र्रशासन ने शासन और सीबीएसई में भेज दी पूरी रिपोर्ट
  • पुलिस टीम प्रयागराज पहुंची, अभी हाथ नहीं आया सरगना
  • भाजपा से जुड़ा पेपर लीक करने वाले गिरोह का एक आरोपी

एपैक्स कोचिंग का नाम शहर की अच्छी कोचिंग में शुमार था। एक ब्रांच से शुरूआत करने के बाद सफलता मिली तो आगरा में चार ब्रांच हो गयी। लालच ने आज कोचिंग स्वामी और शिक्षक सहित पांच लोगों को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। पेपर लीक की जानकारी शासन और सीबीएसआई को पुलिस प्रशासन की ओर से भेज दी गई है। आरोपियों के साथ जेल गया एक युवक भाजपा का  पदाधिकारी भी है।

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा(सीटेट) की परीक्षा 31 जनवरी को आयोजित की गई थी। इस परीक्षा का पेपर एग्जाम से दो घंटे पहले ही लीक कर दिया गया था। इस बात की जानकारी किसी को नहीं थी लेकिन परीक्षा देकर आये एक युवक को व्हाट्स एप पर वायरल आंसर शीट मिली। उसने फिर अपनी आंसर शीट से मिलान किया। देखने के बाद उसके होश उड़ गए। वह समझ गया कि पेपर लीक हो गया है। उसने इस मामले में एसएसपी बबलू कुमार से शिकायत की। एसएसपी ने एसपी ग्रामीण पश्चिमी सत्यजीत गुप्ता और एएसपी अभिषेक कुमार अग्रवाल को पूरा मामला पता करने के लिए लगाया। जिन नंबरों से पेपर वायरल किया गया था, उनकी जांच की तो वह एपैक्स कोचिंग के संचालक विकास शर्मा का निकला। अधिकारियों ने लोहामंडी थाने में डेरा जमा लिया और पुलिस टीम ने विकास को राजामंडी ब्रांच से गिरफ्तार कर लिया। विकास से पूछताछ के बाद उसके शिक्षक प्रभात शर्मा को भी पकड़ लिया। विकास को पेपर प्रभात ने दिया था। प्रभात से जानकारी की तो कुलदीप फौजदार का नाम सामने आया। उसने बताया मोहित यादव ने प्रयागराज के युवक से तीन लाख रुपये में पेपर मंगाया था। लेकिन वह नंबर उससे डिलीट हो गया है। पुलिस की एक टीम प्रयागराज भी पहुंच गई है। वहीं मोहित यादव और उसके सहयोगी सहारा, मलपुरा के रहने वाले थान सिंह सोलंकी को भी पकड़ लिया। पूछताछ में उन्होंने बताया कि उन्होंने यहां पचास हजार रुपये के हिसाब से पेपर को बेचा था। पेपर बेचकर उन्होंने लाखों रुपये कमाए हैं।

सीटेट का पेपर लीक करने के आरोप में पकड़े गए युवकों के बारे में बताते एसएसपी बबलू कुमार, एसपी सिटी रोहन पी बोत्रे और एसपी ग्रामीण पश्चिमी सत्यजीत गुप्ता। फोटो एनएस

बता दें कि सहारा गांव का रहने वाला थाना सिंह सोलंकी भाजपा का एक पदाधिकारी भी है। उसकी गिरफ्तार के बाद गांव के लोगों में चर्चाएं शुरू हो गई हैं। लोगों ने बताया कि कई वह कई नेताओं के संपर्क में था लेकिन ऐसा काम करेगा, इस बात की किसी को भी उम्मीद नहीं था।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *